डॉ. डीवाई पाटिल विद्यालय में मनाया गया वार्षिकोत्सव

डॉ. डीवाई पाटिल विद्यालय में मनाया गया वार्षिकोत्सव

नेशन भारत, सेंट्रल डेस्क: डॉ. डीवाई. पाटिल पुष्पलता पाटिल इंटरनेशनल स्कूल में वार्षिकोत्सव – ‘प्रतिबिंब’ मनाया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि निखिल कुमार, पूर्व राज्यपाल, नागालैंड एवम् केरला रहे। साथ ही डॉ. कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा, शिक्षा मंत्री, बिहार, नीरज कुमार, एमएलसी, सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री, बिहार, रामचंद्र भारती, एमएलसी, अध्यक्ष, आरक्षण कमेटी, बिहार एवम् अजय सिंह, प्रख्यात समाजसेवी सम्मानित अतिथि रहे।

पटना के कई प्रतिष्ठित विद्यालयों के प्राचार्य एवम् निदेशक भी कार्यक्रम में उपस्थित रहे। इनके अतिरिक्त विद्यालय के अध्यक्ष प्रेमरंजन सिंह, उपाध्यक्ष अमरेंद्र सिंह, निदेशक डॉ. सीबी सिंह, प्राचार्या राधिका के., शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मचारी, अभिभावकगण तथा विद्यार्थीगण उपस्थित रहे। अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ से किया गया। अतिथिगण, अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, निदेशक महोदय तथा प्राचार्या महोदया ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

निदेशक महोदय ने अतिथियों के स्वागत में भाषण दिया तथा कार्यक्रम के प्रारंभ होने की घोषणा की। गणेश- वंदना तथा भारतनाट्यम के साथ बच्चों द्वारा स्वागत – नृत्य प्रस्तुत किया गया । कक्षा प्रथम से कक्षा बारहवीं तक के अधिकतर विद्यार्थियों ने कार्यक्रम को सफल बनाने में अपनी प्रशंसनीय सहभागिता निभाई। इस कार्यक्रम की थीम थी – नारी सशक्तिकरण, सामाजिक कुरीतियों का बहिष्कार तथा प्रकृति संरक्षण अर्थात वर्तमान समाज का प्रतिबिंब इस कार्यक्रम में दिखाया गया जो कार्यक्रम के नाम के अनुकूल था।


प्रशंसा की बात यह है कि इन समस्याओं को विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से केवल दिखाया ही नहीं गया बल्कि उनके उपाय भी बताए गए। इसी संदर्भ में नारी सशक्तिकरण को प्रदर्शित करने हेतु विद्यालय की शिक्षिकाओं द्वारा ‘आज की द्रौपदी’ नृत्य – नाटिका की प्रस्तुति की गई जो कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण रही। आज की द्रौपदी ने जब स्वयं ही दुश्शासन का वध किया तो सारा परिसर करतल ध्वनि से गूँज उठा।


प्रकृति संरक्षण का संदेश देते हुए’ गो ग्रीन’ नृत्य, नुक्कड़ नाटक ‘जल- जीवन- हरियाली’,’ पंचतत्व नृत्य’, ‘माइम डांस’, ‘से नो टू प्लास्टिक’ डांस, इत्यादि की प्रस्तुति की गई। सामाजिक कुरीतियों के उपाय के रूप में कक्षा प्रथम द्वारा ‘पाथ टू विज़डम’ नृत्य प्रस्तुत किया गया। साथ ही ‘वृद्धाश्रम आवश्यक क्यों ?’ नाटक, थेमैटिक डांस प्रस्तुत किए गए। साथ ही आज अभिभावकों, शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के बीच जो आपसी सामंजस्य की कमी दिखाई देती है उसकी जुगलबंदी कव्वाली मजे़दार रही। बच्चों ने ऑर्केस्ट्रा के माध्यम से विभिन्न बॉलीवुड गीत गा कर माहौल को और ज्यादा खुशनुमा बना दिया।


मुख्य अतिथि निखिल कुमार जी ने कार्यक्रम की थीम एवं बच्चों की प्रस्तुति की मुक्त कंठ से प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि बच्चों ने आज की ज्वलंत समस्याओं को उजागर ही नहीं किया बल्कि उसके समाधान भी बताए जो कि प्रशंसनीय है। निश्चय ही यह बच्चे समाज – हितैषी होंगे तथा एक मजबूत समाज की नींव रखेंगे। नारी सशक्तिकरण आज की आवश्यकता बन गई है। ‘आज की द्रौपदी’ नाटिका एक प्रेरणा है, हर उस स्त्री के लिए जो अत्याचार सहती है। सम्मानित अतिथि श्री नीरज कुमार ने प्रकृति संरक्षण थीम की प्रशंसा करते हुए कहा कि स्वस्थ रहने के लिए प्रकृति – संतुलन अति आवश्यक है। बच्चों की मेहनत बेकार नहीं जाएगी हम सबके लिए यह बच्चे प्रेरणा स्त्रोत बने हैं, जिससे हम प्रकृति के प्रति और अधिक जागरूक होंगे।


शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार शिक्षा सहित हर क्षेत्र में आगे बढ़ा है। ऐसे कार्यक्रमों के माध्यम से बच्चों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलता है। आज के कार्यक्रम में बच्चों की कड़ी मेहनत साफ झलक रही थी जिसमें उन्हें मार्गदर्शन देने वाले शिक्षकों का भी सराहनीय योगदान है। उन्होंने विश्वास जताया कि डॉ. डीवाई पाटिल विद्यालय शिक्षा जगत का एक मजबूत स्तंभ बनेगा। इनके अलावा अन्य अतिथियों ने भी अपने आशीर्वचन द्वारा बच्चों के सफल – जीवन की कामना की। प्राचार्या महोदया ने धन्यवाद ज्ञापन किया तथा राष्ट्रगान के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ ।

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *