बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा 2020 : नियोजित शिक्षकों की हड़ताल के बीच परीक्षा शुरू

बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा 2020 : नियोजित शिक्षकों की हड़ताल के बीच परीक्षा शुरू

नेशन भारत, सेंट्रल डेस्क: नियोजित व प्राथमिक शिक्षकों की हड़ताल के बीच बिहार बोर्ड की मैट्रिक परीक्षा आज से तय समय पर शु्रू हो गयी है। शिक्षकों के हड़ताल से परीक्षा में कोई व्यवधान ना हो, इसे लेकर सभी परीक्षाकेंद्रों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। परीक्षा नियत समय पर 9.30 बजे शुरू हो चुकी है। परीक्षार्थियों को पहले ही निर्देश दे दिया गया था कि वो परीक्षा केंद्र पर 10 मिनट पहले पहुंच जाएं। अन्यथा परीक्षा केंद्र में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसे लेकर परीक्षा केंद्रों पर छात्रों की गहमागहमी देखी गई।

सीतामढ़ी में परीक्षा प्रारंभ होने के साथ ही प्रश्नपत्र लीक होने की अफवाहें उड़ने लगीं। फर्जी प्रश्नपत्र भी सोशल मीडिया पर वायरल होने लगे। इस सूचना के बाद जिला प्रशासन हरकत में आया। तुरंत जांच भी करा ली गई। एसडीओ सदर कुमार गौरव ने वायरल हो रहे विज्ञान के प्रश्नत्र को फर्जी करार दिया।

जिलाधिकारी अभिलाषा कुमारी शर्मा व एसपी अनिल कुमार ने परीक्षा के दो दिन पूर्व ही अफवाहें फैलाने वालों पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी थी। बावजूद, परीक्षा शुरू होते ही सोशल मीडिया पर फर्जी प्रश्नपत्र वायरल कर अफवाहों को हवा देने का प्रयास किया गया। आज विज्ञान विषय की परीक्षा हो रही है। लखीसराय जिले में मैट्रिक परीक्षा शुरू होने से पहले ही विज्ञान विषय का प्रश्नपत्र वायरल होने की अफवाह से सनसनी मच गई है। लखीसराय जिला मुख्यालय स्थित केएसएस कॉलेज केंद्र के पास काफी संख्या में लोग मोबाइल देखकर चिट बनाते हुए देखे गए।


भागलपुर में कुल 9000 नियोजित टीचर हड़ताल पर हैं। जो नियोजित टीचर हड़ताल पर है। उन्हें केंद्र के बाहर घूमने पर पाबंदी लगा दी गई है। प्रशासन की तरफ से कहा गया है कि अगर वो परीक्षाकेंद्र के बाहर दिखते है तो उनपर मुकदमा होगा। परीक्षा नियंत्रण प्रभारी संजय कुमार मंडल के अनुसार कहीं से कोई प्रश्न पत्र वायरल नहीं है। मॉडल पेयर को ही लोग अफवाह उड़ाने के लिए सोशल मीडिया पर टैग कर रहे है या व्हाट्सएप पर भेज रहे हैं।


राज्य के 1368 केंद्रों पर परीक्षा ली जा रही है, जिसमें 15.29 लाख परीक्षार्थी शामिल हुए हैं। सोमवार को विज्ञान विषय की परीक्षा हो रही है। पहली परीक्षा सुबह साढ़े नौ बजे से सवा 12 बजे तक होगी। दूसरी पाली की परीक्षा अपराह्न 1:45 से शाम 4:30 बजे तक ली जाएगी। नकल रोकने के लिए परीक्षा की हर पाली में 10 सेट में प्रश्न पत्र प्रकाशित करवाया गया है। 10 मिनट पहले तक ही प्रवेश की अनुमति दी गई है।


परीक्षा के लिए 07 लाख 83 हजार 34 छात्राओं एवं 07 लाख 46 हजार 359 छात्रों ने आवेदन किया है। शिक्षकों की हड़ताल व परीक्षा बहिष्कार को देखते हुए बिहार बोर्ड की ओर से मैट्रिक परीक्षा के लिए जिलाधिकारियों को विशेष अधिकार दिए गए है। इसके तहत सभी जिलों में नियमित शिक्षकों को परीक्षा कार्य में लगाया गया है।

जिन जिलों में नियमित शिक्षकों के बावजूद वीक्षक कम पड़ रहे हैं, वहां कलेक्ट्रेटकर्मी से लेकर अन्य विभागों के कर्मियों से भी वीक्षण कार्य लेने की छूट दी गई है। सोमवार से ही नियोजित एवं प्राथमिक शिक्षकों के हड़ताल के कारण परीक्षा समिति के लिए घड़ी ‘परीक्षा’ से कम नहीं होगी। बिहार राज्य शिक्षक संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर राज्यस्तरीय हड़ताल के पहले दिन से शिक्षकों ने संघर्ष यात्रा निकालने की घोषणा की है।

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *