राजद ने जयदू के खिलाफ लगाए पोस्टर, लिखा- ‘पंद्रह साल में पचपन घोटाले’ का जवाब दे नीतीश सरकार

राजद ने जयदू के खिलाफ लगाए पोस्टर, लिखा- ‘पंद्रह साल में पचपन घोटाले’ का जवाब दे नीतीश सरकार

नेशन भारत, सेंट्रल डेस्क: इसी साल के अंत में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव के कारण जनता दल यूनाइडेट और राष्ट्रीय जनता दल में जनमत को अपने-अपने पक्ष में करने के लिए पोस्टर वार छिड़ा हुआ है. दोनों दलों के बीच छिड़ी पोस्टर जंग लगातार जारी है. जेडीयू के पोस्टर के जवाब में आरजेडी ने सोमवार को नया पोस्टर लगाया है. इस पोस्टर का शीर्षक है- ‘पंद्रह साल पचपन घोटाले’. इस पोस्टर में जनता दल यूनाइडेट के शासनकाल में हुए कथित 55 घोटालों का जिक्र किया गया है.

पोस्टर में पहले घोटाले के रूप में सृजन घोटाला दर्ज है. उसके बाद मुजफ्फरपुर बालिका गृह जन बलात्कार कांड एनजीओ घोटाला, छात्रवृत्ति घोटाला, धान घोटाला, बांध घोटाला और ग्रामीण बैंक घोटाले के साथ-साथ अनेक घोटालों का जिक्र है. पार्टी ने नीतीश कुमार सरकार से इन तमाम घोटालों पर जवाब मांगा है.

इससे पहले जेडीयू ने पोस्टर जारी करते हुए तेजस्वी यादव की यात्रा पर सवाल खड़े किए थे. तेजस्वी की बस से होने वाली यात्रा पर सवाल खड़े करते हुए पोस्टर के जरिए जेडीयू ने अतिपिछड़ों को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था.
इस पोस्टर में तेजस्वी जिस बस से यात्रा पर निकलेंगे उस बस पर सवाल खड़े किए गए हैं. बस को किसी राक्षस की तरह दिखाया गया है और उसी बस पर तेजस्वी और लालू प्रसाद खड़े दिखाई पड़ रहे हैं.

पोस्टर के जरिए अति पिछड़ा की राजनीति को गरमाते हुए उस अति पिछड़ा व्यक्ति को भी दर्शाया गया है जो बीपीएल सूची में होते हुए बस का मालिक बताया गया था. जेडीयू ने इसे अतिपिछड़ा के साथ आर्थिक जालसाजी बताया था. गौरतलब है कि पिछले दिनों जेडीयू नेता नीरज कुमार ने बस का खुलासा करते हुए बीपीएल सूची के एक व्यक्ति को बस का मालिक होने का खुलासा किया था.

हताशा का परिणाम: आरजेडी जेडीयू द्वारा जारी पोस्टर को आरजेडी ने हताशा का परिणाम बताया था. आरजेडी नेता मृत्युंजय तिवारी ने बताया कि जेडीयू के पास कहने को कुछ बचा नहीं है. जेडीयू तेजस्वी की होने वाली बेरोजगारी यात्रा से घबरा गई है. घबराहट में तेजस्वी की यात्रा पर सवाल खड़े कर रही है. बस के बारे में पहले ही बताया जा चुका है कि बस मालिक बीपीएल में नहीं बल्कि कॉन्ट्रैक्टर है.

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *