गंगा नदी उफान पर है लेकिन लोग नावों से खतरनाक तरीके से सफर कर रहे हैं।

0 196

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

PATNA 30.06.22 –लगातार हो रही बारिश से गंगा नदी सहित अन्य नदियां उफान पर हैं। पहाड़ी क्षेत्रों से लेकर मैदान तक नदियां में उफान में हैं। प्रशासन की ओर से अलर्ट जारी किया है, जबकि नदियों के आसपास रहने वाले लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी गई है। हरिद्वार में देर रात गंगा और सोलानी नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुंचने से हड़कंप मच गया।खतरे की आशंका को देखते हुए हरकत में आए प्रशासन ने राहत एवं बचाव कार्यों की तैयारी शुरू कर दी।

लखीसराय में गंगा और किऊल नदी जलस्तर बढ़ रहा है। बढ़ते जलस्तर से लोग भयभीत हैं।

लखीसराय शहरी क्षेत्र में बाढ़ का पानी घुसने लगा है। वार्ड नंबर 6 के इलाकाें में पानी प्रवेश कर गया है। आधा दर्जन घरों में पानी घुस गया है। गंगा में जल स्तर बढ़ने से किऊल नदी में पूरी तरह से गंगा का पानी फैल गया है। नदी उल्टी दिशा में प्रवाहित हो रही है। किऊल नदी उत्तर से दक्षिण की ओर बहती है, वर्तमान में गंगा के पानी ने धारा को ही बदल दिया है। उत्तर से दक्षिण की ओर बह रही है। किऊल एवं हरोहर नदी पूरे उफान पर है। इसके आस पास के गांंवों में पानी फैल गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में अमहरा, बालगूदर एवं मोरमा पंचायत प्रभावित हो रहा है। ग्रामीण सुरक्षित स्थानों पर जाने लगे हैं। किऊल नदी के किनारे बसा खगौर गांव में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। उधर बाढ़ का पानी फैलने से बभनगावां, रामनगर, नेमदारगंज एवं साविकपुर पंचायत पूरी तरह से प्रभावित है। गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से टूट गया है। इन क्षेत्रों में करोड़ों रुपये फसल पूरी तरह से पानी डूब गया है। प्रशासन ने बाढ़ प्रभावित इन क्षेत्रों में किसी तरह की राहत की व्यवस्था नहीं की गई।

- Sponsored -

- Sponsored -


बड़हिया टाल क्षेत्र के दर्जनों गांव जाने वाले गंगासराय रेलवे पुल, बड़हिया रेलवे पुल, डुमरी रेलवे पुल के नीचे बाढ़ का पानी आ जाने से लोगों को बड़हिया प्रखंड मुख्यालय व बाजार आने जाने में काफी परेशानियों का सामना करना पर रह है। पूरे टाल क्षेत्र के दर्जनों गांव पाली, सरौरा, फदरपुर, कोठवा, महरामचक एवं एजनिघाट, फदरपुर, कोठवा, महरामचक, सरौरा, जानपुर, भानपुर, एजनीट, रायपुरा, नथनपुर, कमरपुर, भानपुर, जानपुर, फादिल, एजनिघाट, रायपुरा, नरसिघौली, गिरधरपुर, मनोहरपुर, सदायबीघा, ज्वास, धीराडांड़, रायपुरा, सायरबीघा, शरमा, डुमरी, कमरपुर, वीरुपुर आदि गांव पूरी तरह बाढ़ से घिर गया है।

इन सभी गांव के लोगों का एक मात्र सहारा नाव है। यहां के लोगों ने बड़हिया प्रशासन से नाव की मांग कर रहे हैं। गांव के किसानों को मवेशी के लिए चारा के लिए, ग्रामीणों को काफी परेशानी हो रही है।दरियापुर से खुटहा जाने वाली मुख्य मार्ग पर स्थित दरियापुर, आदर्श लक्ष्मीपुर सड़क सहित कई जगहों के सड़क पर गंगा का पानी तेज रफ्तार से बह रहा है। जिसके कारण आदर्श लक्ष्मीपुर के समीप सड़क का कटाव हो चुका है। इस मार्ग पर आवागमन ठप हो गया है।

खुटहा गांव चारों तरफ से पानी से घिर चुका है। घर में पानी घुस जाने पर लोग घर के छत या ऊंचे स्थान पर रह रहे हैं। घर बाहर निकलने और बाजार जाने का कोई साधना नहीं है।प्रशासनिक स्तर पर कोई मुकम्मल इंतजाम नहीं किए गए हैं। निचले इलाके में लोगों के सुरक्षित आने-जाने के लिए नाव तक उपलब्ध नहीं कराया गया है। बड़हिया प्रखंड के लोगों के सामने रोजमर्रा की चीजों का संकट पैदा हो गया है।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More