दक्षिण अफ्रीका के अखबारों में मोदी-मोदी, चंद्रयान-3 की लैंडिंग के बाद,

दक्षिण अफ्रीका के अखबारों में मोदी-मोदी, चंद्रयान-3 की लैंडिंग के बाद,

114

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

दक्षिण अफ्रीका के अखबारों में मोदी-मोदी, चंद्रयान-3 की लैंडिंग के बाद,

चंद्रयान 3 की लैंडिंग के बाद दक्षिण अफ्रीका के अखबार में मोदी मोदी, एस  जयंशकर ने शेयर की तस्वीर | PM Narendra Modi Chandrayaan 3 South Africa Tour  News Paper Photo | TV9 Bharatvarsh

भारत ने चंद्रमा पर पहुंचकर इतिहास रच दिया है। भी बन गया है, जो चांद के साउथ पोल पर पहुंचने वाला दुनिया का इकलौता देश है। भारत और इसरो दुनिया भर में प्रशंसित हैं। बुधवार शाम 6 बजकर 4 मिनट पर, इसरो ने भेजा गया चंद्रयान-3 ने चांद पर 41 दिन तक सफर करने के बाद सफलतापूर्वक लैंडिंग की।

दुनिया भर के प्रमुख अखबारों ने लैंडिंग को अपने फ्रंट पेज पर छापा है और इसे भारत के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि बताया है।ब्राजील के राष्ट्रपति लूला डि सिल्वा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जब वे ब्रिक्स सम्मेलन में भाग लेने के लिए साउथ अफ्रीका गए।

- Sponsored -

- Sponsored -

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोशल मीडिया पर एक वायरल फोटो शेयर की है। जिसमें प्रधानमंत्री मोदी ब्राजील के राष्ट्रपति के साथ एक अखबार पढ़ते हुए दिखते हैं। चंद्रयान-3 से जुड़ी खबर को अपने फ्रंट पेज पर प्रकाशित करने वाले अखबार का नाम द स्टार बताया जा रहा है। समाचार पत्र ने इंडिया मोदी बाहर की दुनिया की हेडलाइन दी है।

प्रधानमंत्री मोदी ने चुनाव वर्ष में चंद्रयान-3 से इतिहास रच दिया , पीएम मोदी साउथ अफ्रीका से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इसरो से जुड़े थे, जब भारत बुधवार शाम को इतिहास रचने के लिए उत्सुक था। प्रधानमंत्री मोदी ने चंद्रयान-3 के चांद पर पहुंचने के बाद इसरो के वैज्ञानिकों को संबोधित करके इस महत्वपूर्ण उपलब्धि को बधाई दी और भविष्य में अन्य योजनाओं के लिए भी शुभकमानाएं दी। PM मोदी ने कहा कि आज से चंद्रमा के बारे में मिथक दूर हो जाएंगे। अब तक चंदा मामा को दूर से कहा जाता था, लेकिन बच्चे अब कहेंगे कि चंदा मामा सिर्फ एक यात्रा के। हमने धरती पर योजना बनाई और चांद पर उसे लागू किया। यह हमारे देश के वैज्ञानिकों की कठिन परिश्रम का परिणाम है।

2019 में भारत ने चंद्रयान-2 का उद्घाटन किया। उसकी एक और इच्छा थी चांद के दक्षिणी पोल पर लैंड करना और वहाँ पानी और मिट्टी पत्थरों का अध्ययन करना, लेकिन वह लैंडिंग के समय फेल हो गया। भारत ने अब करीब चार साल बाद चंद्रयान-3 को लॉन्च किया था, उसी उद्देश्य से पहले की गलतियों से सीख लेते हुए। चंद्रयान-3 की सफल लैंडिंग लॉन्चिंग के 41 दिन बाद हुई है।

 

Reported by Lucky Kumari

 

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More