भारत बंद के दौरान कहां थे तेजस्वी यादव–बोले थे जान दे दूंगा,गिरफ्तारी दे दूंगा।

भारत बंद के दौरान कहां थे तेजस्वी यादव–बोले थे जान दे दूंगा,गिरफ्तारी दे दूंगा।

इंडिया सिटी लाइव (पटना): किसानों के आह्वान पर देश भर में आठ दिसम्बर को प्रदर्शन हुए। बिहार में भी भारत बंद का असर दिखा । भारत बंद के दौरान तमाम राजनीतिक पार्टियां भी सड़क पर दिखीं. पटना में जनअधिकार पार्टी सुप्रीमो पप्पू यादव, कांग्रेस के कई दिग्गज नेता और वामदल के भी कई नेता सड़क पर उतरकर प्रदर्शन करते दिखे लेकिन हैरान करने वाली बात है कि बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भारत बंद में कहीं भी नहीं दिखे.
सोमवार को ही बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा था कि “किसान के बच्चे ही सीमा पर देश की रक्षा करते हैं और किसान के अन्न से ही देश का पेट भरता है. अगर किसान के बेटे जवान और किसान स्वयं झुक गए तो देश झुक जाएगा. हम हर संघर्ष में दृढ़ता के साथ अन्नदाताओं के संग कंधे से कंधा मिलाकर खड़े है. धनदाताओं के पिछलग्गूओं बिना अन्न क्या धन खाओगे ?” मंगलवार को होने वाले भारत बंद को लेकर ही तेजस्वी ने ऐसा कहा लेकिन उन्होंने खुद ही इस बड़े आंदोलन से दूरी बना ली.

MSP को लागू करने की मांग–
हालाकि शनिवार को तेजस्वी ने किसानों के समर्थन में पटना गांधी मैदान के पास प्रदर्शन किया था. उन्होंने पूछा था कि अगर नए कृषि विधेयक किसानों के पक्ष में है तो सरकार MSP को अनिवार्य रूप से लागू क्यों नहीं करती ? गौरतलब है कि तेजस्वी ने कहा ता कि किसानों को फसल का उचित दाम और न्याय दिलाने के लिए कल सुबह 10 बजे से गाँधी मैदान, पटना में गांधी मूर्ति के सामने संकल्प लूंगा.
तेजस्वी के इस प्रदर्शन में कोरोना गाइडलाइन के उल्लंघन को लेकर एफआईआर भी किया गया. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष समेत उनकी पार्टी के कई विधायकों के खिलाफ भी पटना जिला प्रशासन ने एक्शन लिया और प्राथमिकी दर्ज कराई. प्रशासन की इस कार्रवाई पर तेजस्वी ने नाराजगी जतायी है. उन्होंने कहा है कि “किसानों के लिए अगर सरकार मुझे फांसी पर लटका देगी तो भी मुझे मंजूर होगा.”

तेजस्वी ने कहा था कि दम है तो गिरफ़्तार करो–
तेजस्वी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि “डरपोक और बंधक मुख्यमंत्री की अगुवाई में चल रही बिहार की कायर और निक्कमी सरकार ने किसानों के पक्ष में आवाज उठाने के जुर्म में हम पर FIR दर्ज की है. दम है तो गिरफ़्तार करो, अगर नहीं करोगे तो इंतज़ार बाद स्वयं गिरफ़्तारी दूँगा. किसानों के लिए FIR क्या अगर फाँसी भी देना है तो दे दिजीए.”
दिन भर कहां रहे तेजस्वी यादव—
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक तेजस्वी यादव फिलहाल दिल्ली में हैं. गौरतलब है कि 11 दिसंबर को चारा घोटाले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव के एक मामले की सुनवाई होने वाली है. बताया जा रहा है कि इसी मामले को लेकर तेजस्वी दिल्ली में सीनियर वकीलों से बातचीत करने गए हैं. बहरहाल भले ही तेजस्वी भारत बंद से दूर रहे हों लेकिन उनकी पार्टी आरजेडी ने पटना समेत बिहार के विभिन्न जिलों में सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया और किसानों के समर्थन में अपनी आवाज बुलंद की.

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *