चाणक्य आईएएस एकेडमी के गया ब्रांच में 68वीं BPSC में 7वी रैंक अंजली प्रभा का हुवा सम्‍मान समारोह*

238

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

*चाणक्य आईएएस एकेडमी के गया ब्रांच में 68वीं BPSC में 7वी रैंक अंजली प्रभा का हुवा सम्‍मान समारोह*

- Sponsored -

- Sponsored -

 चाणक्य आईएएस एकेडमी के रीजनल हेड डॉ कृष्णा सिंह ने बताया की 68वीं BPSC में एकेडमी से काफी अधिक अभ्यर्थियों का चयन हुआ है। सतत प्रयास और युक्तिसंगत समय प्रबंधन सफलता को निर्धारित करता है अगर किसी भी व्यक्ति को ये साधन उपलब्ध हैं तो कोई भी लक्ष्य बड़ा नहीं हो सकता। यदि किसी व्यक्ति को ये साधन उपलब्ध हैं और अगर उसने उसका सही उपयोग किया है तो उसके लिए इस ब्रहमांड में कोई भी लक्ष्य हासिल करना असंभव नहीं है। क्योंकि मनुष्य के दिमाग से बड़ी अखिल ब्राह्मांड में कोई चीज नहीं है। अपनी आवश्यकता अनुसार मनुष्य में ये क्षमता है कि वो अपने अपेक्षित निर्धारित लक्ष्य को हासिल करने के लिए अपने दिमाग को उसी अनुकूल रिप्रोग्राम करके अपेक्षित लक्ष्य को हासिल कर सके। उन्होंने कहा की मनुष्य अपनी आंतरिक शक्तियों को उजागर कर बड़ी से बड़ी कामयाबी हासिल कर सकता है छात्रों को सतत मेहनत करने की सलाह देते हुए डॉ सिंह ने कहा की आप सभी में कुछ कर गुजरने की अपार शक्ति है, सिर्फ आप अपने विवेक का उचित मार्गदर्शन में सटीक इस्तेमाल करें।

सेमिनार में 68वीं BPSC परीक्षा में चाणक्य आईएएस एकेडेमी के गया क्षेत्र से चयनित विद्यार्थी भी उपस्थित थे जिन्हें मुख्य अतिथी डॉ रणविजय कुमार सिंह, पूर्व विधायक गोह, ने मेमोंटो देकर सम्मानित किया एवं कहा कि इन विद्यार्थियों के चयन में उनके अभिभावकों का सबसे बड़ा योगदान है। 68वीं BPSC में चयनित अंजली प्रभा जिन्होंने रैंक 7 हासिल कर कीर्तिमान स्थापित किया है ने समारोह में उपस्थित विद्यार्थियों को अपने सफलता में पाये अनुभवों को साझा कर उनकी भावी जीवन की सफलता के लिए सिविल सेवा परीक्षा की बारीकियों को समझाकर उनका व्यापक पैमाने पर मार्गदर्शन किया। जिससे समारोह में उपस्थित छात्रों में व्यापक उत्साह देखने को मिला।
इसके पूर्व डॉ. कृष्णा सिंह ने अपने स्वागत भाषण में एकेडमी के इतिहास तथा उसके स्वर्णिम उपलब्धियों को बताया, उन्होंने बताया कि लगभग 30 वर्षो में इस संस्था ने देश को लगभग 5200 IAS, IPS तथा अन्य सिविल सेवाओं में चयनित विद्यार्थी देश को दिया है। चाणक्य आइएएस एकेडमी ने BPSC में 1400+ अभ्यर्थियों की सफलता में अपना योगदान दिया है। हाल ही में आये 68वीं BPSC के अंतिम परिणाम में काफी अधिक मात्रा में विद्यार्थियों का चयन चाणक्य IAS एकेडमी के पटना और गया सेंटर से हुआ है एवं 67वीं BPSC में 253 छात्रों का चयन हुआ था ।
चाणक्य आईएस एकेडमी आज देश की सर्व प्रतिष्ठित संस्था है जो विद्यार्थियों का मार्गदर्शन करके ना केवल उन्हें सिविल सेवा में चयनित कराने में सहायता प्रदान करती है बल्कि भविष्य के नौकरशाहों को अपने शिक्षण मार्गदर्शन से व्यापक पैमाने पर नैतिक एवं प्रशासनिक कौशल भी प्रदान करती है जिससे वे अपने कार्यो को सुगमता से कर सकें। चाणक्य आईएस एकेडमी वैसे दूर दराज के छात्र जिनकी पहुँच सीधे तौर पर एकेडमी तक नहीं होती है उनके लिए दूरस्थ शिक्षा का भी प्रबंध करती है। गया में इसकी शाखा ग्राउंड फ्लोर, बद्री कैलाश चरण, बिसाइड चोपड़ा एजेंसी, रामेश्वर सिन्हा पथ, साउथ ऑफ़ बिसर तालाब गया के पास स्थित है। विस्तृत निःशुल्क counselling के लिए छात्र 8929702344 पर कॉल कर सकते हैं।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More