आज होगी 3 बजे घर-घर में रंगो की बौछार

0 186

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

आज होगी 3 बजे घर-घर में रंगो की बौछार

पटना, 18 मार्च. रंग हमारे जीवन का अभिन्न हिस्सा है. इसके रंगों से हमारे जीवन में कई शेड्स देखने को मिलते हैं. यही कारण है कि रंगो की होली कुछ खास होती है हम सबके लिए. उमंग और उल्लास वाली होली का रंग को आने वाली पीढ़ियों को संस्कृति के माध्यम से बताने के लिए लोककला का बड़ा योगदान है जिसे व्यापक पैमाने पर लोगो तक पहुंचाने के लिए दूरदर्शन ने इन लोककलाओ की रिकॉर्डिंग पिछले दिनों अपने परिसर में ही किया, जिसे होली के मौके पर आज 3 बजे से प्रसारित किया जाएगा. तो हर घर में इस रंग की बौछार सबको रंगमय कर देगी.

- Sponsored -

- Sponsored -

दूरदर्शन केन्द्र पटना द्वारा बिहार के लोक संस्कृति एवं विरासत पर आधारित होली पर विशेष कार्यक्रम “रंगो की बौछार की रिकॉर्डिंग कोरोना गाईडलाइन का अनुपालन करते हुए डीडी बिहार परिसर में दर्शको के समक्ष किया गया. कार्यक्रम की शुरूआत दीप प्रज्जवलन से हुई. इस अवसर पर उपस्थित दर्शको के समक्ष स्वागत संबोधन करते हुए कार्यक्रम प्रमुख डॉ. राज कुमार नाहर ने कहा कि होली हम सभी के जीवन में नवखुशियों, नवरंग, नवउल्लास, नवस्फूति एवं नव प्रेरणा से सरावोर करती है तथा हम आपसी भेदभाव को भूलकर विश्व बंधुत्व के तार से जुड़ जाते है. इसी को ध्यान में रखते हुए डीडी बिहार द्वारा प्रायः प्रत्येक वर्ष वसंत एवं होली पर अधारित कार्यक्रमों का प्रसारण किया जाता है. उन्होंने कहा कि अपने पावन देश व लोक संस्कृति से समृद्धि प्रदेश में होली के पारम्परिक विधाओं की प्रस्तुति लोकप्रिय कलाकारों के द्वारा उपस्थित दर्शक के समक्ष करते आये है. आज भी हम होली आधारित लोक गीत एवं नृत्य की प्रस्तुति कर गौरावन्वित महसूस कर रहे है. उन्होंने कहा कि आज का कार्यक्रम “रंगो की बौछार हमारे जीवन के सदा उमंग भरने का काम करेंगी तथा हमें अपने लोक संस्कृति एवं विरासत को संरक्षित करने के लिए प्रोत्साहित करती रहेगी. इस अवसर पर दूरर्शन केन्द्र पटना के केन्द्राध्यक्ष राजीव सिन्हा ने कहा है कि होली हमारी सभी बुराईयों को मिटाकर आर्दश पथ पर चलने की प्रेरणा देती है. हम नई उर्जा एवं उत्साह से परिपूर्ण होकर जीवन में प्रगति के मार्ग को प्रशस्त करते हैं. आपसी वैर भाव को भूलाकर आपसी भाईचारा को बढ़ाने का संदेश हमें होली से प्राप्त होता है. डीडी बिहार का भी यही उद्देश्य है कि हम अपने सभी कार्यक्रमों के द्वारा दर्शकों का मार्ग दर्शन करते रहे है. सूचना ज्ञान एवं स्वस्थ मनोरंजन उपलब्ध कराना ही हमारा उद्देश्य है जिसके दिशा में हम लगातार प्रयत्नशील है. उसके बाद लोकगीत कार्यक्रम की शुरूआत होली लोकगीत गायन से किया गया जिसमें एक से बढ़कर एक जानेमाने लोकप्रिय कलाकारों की प्रस्तुति हुई. बलवीर सिंह बग्गा, प्रियुष कुमार, सत्यप्रकाश गुप्ता के द्वारा होली गायन किया गया फिर उर्वशी कुमारी, प्रियंका सिंह चौहान, गायत्री कुमारी ने होली गायन किया, उसके बाद रोहित कुमार तिवारी, विनय कुमार मिश्रा एवं सुनील कुमार मउआर के द्वारा होली गायन किया गया. इन सभी कलाकारों के साथ तबला पर अर्जुन कुमार चौधरी, बैजों पर हरेन्द्र साह, क्लारनेट पर बुचुल भट्ट, नगाड़ा पर विनोद पंडित, इफेक्ट पर सूरज कुमार एवं इफेक्ट पर नीरज कुमार ने संगत किया. होली गायन के बाद होली आधारित लोकनृत्य की प्रस्तुति भी हुई.

नृत्य कलाकारों ने फागून के एक शाम में दर्शकों को झूमने पर विवश कर दिया ट्रोली लोकनृत्य महिमा एवं साथी के द्वारा प्रस्तुत किया गया. इस अवसर पर सम्मानित अतिथियों, गणमान्य व्यक्तियों, दर्शको के अलावा दूरदर्शन केन्द्र, पटना के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे. होली पर आधारित विशेष कार्यक्रमों के प्रस्तुतकर्ता अनिल कुमार मिश्रा, ललित कुमार, राकेश कुमार एवं भारत प्रसाद है. इसका प्रसारण डीडी बिहार चैनल पर 18 मार्च को अपराहन 3 से 5 संध्या 6 से 7 बजे के बीच किया जाएगा.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More