नीतीश सरकार की मनमानी और कर्मचारी विरोधी कार्रवाइयों से परेशान होकर बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ( गोप गुट) द्वारा विधानसभा पर मुख्यमंत्री , बिहार के समक्ष आज दिनांक 17 मार्च, 2021 को हजारों राज्यकर्मियों – शिक्षकों -अनुबंध- मानदेय – आउटसोर्स कर्मियों द्वारा प्रदर्शन किया गया ।

22

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

नीतीश सरकार की मनमानी और कर्मचारी विरोधी कार्रवाइयों से परेशान होकर बिहार राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ( गोप गुट) द्वारा विधानसभा पर मुख्यमंत्री , बिहार के समक्ष आज दिनांक 17 मार्च, 2021 को हजारों राज्यकर्मियों – शिक्षकों -अनुबंध- मानदेय – आउटसोर्स कर्मियों द्वारा प्रदर्शन किया गया ।
50 वर्ष की आयु पूरी होने पर सेवा समीक्षा के नाम पर जबरन सेवानिवृत्ति आदेश वापस लेने , सभी रिक्त पदों पर स्थाई नियुक्ति करने एवं वर्ष 2019 से प्रोन्नति पर लगे रोक की वापसी , नई पेंशन योजना को समाप्त कर पुरानी पेंशन योजना लागू करने ,अनुबंध- आउटसोर्स प्रथा बंद कर सभी संविदा कर्मियों की सेवा नियमित करने , समय पर नियमित वेतन – मानदेय का भुगतान सुनिश्चित करने , प्रभाव कारी के जे०सी०एम० का गठन करने , केंद्र के अनुरूप सभी को परिवहन भत्ता स्वीकृत करने , जनवरी 2020 से कोविड-19 के नाम पर रोक रखे गए महंगाई भत्ता के अंतर राशि का भुगतान करने , स्वास्थ्य कर्मियों को पेशेंट केयर एलाउएॱस स्वीकृत करने , विभिन्न तिथियों में किए गए हड़ताल अवधि को उपार्जित अवकाश में समायोजित करने , हड़ताल /आंदोलन के दरम्यान राज्यकर्मियों – शिक्षकों के विरुद्ध दर्ज मुकदमों को समाप्त करने एवं तमाम दंडात्मक वापस लेने एवं तमाम दमनात्मक कार्रवाइयाॅ वापस लेने ,संघ – महासंघ के पदधारको के स्थानांतरण पर रोक संबंधी पूर्व के प्रावधानों को बरकरार रखने , कार्यभारित कर्मियों की सेवानिवृत्ति / मृत्यु होने पर पदों की समाप्ति के नीति को निरस्त करने , कार्यभारित से दैनिकश्रम पुस्त में प्रत्यावर्तित शेष कर्मियों की सेवा नियमित करने ,योग्यताधारी चतुर्थवर्गीय कर्मियों को तृतीय वर्ग में प्रोन्नति देने , सभी कार्यरत अथवा छटनीग्रस्त कार्यभारित /मौसमी/ सामयिक/डीडीटी छिड़कावकर्मी /उजरत भोगी /पशु टीका कर्मी/उम्मीदवार पिउन को सरकारी कर्मचारी घोषित करने , आशा -ममता- रसोईया – आंगनवाड़ी सेविका- सहायिका- पर्वेक्षिका को सरकारी कर्मचारी घोषित करने ,कार्यपालक सहायक – डाटा एंट्री ऑपरेटर सहित सभी संविदा कर्मियों को सरकारी सेवा में समायोजित करने सहित 11 सूत्री मांगों की पूर्ति हेतु मुख्यमंत्री के समक्ष हजारों की संख्या में शामिल होकर राज्यकर्मियों – शिक्षकों ने प्रदर्शन किया ।

प्रदर्शन का नेतृत्व महासंघ के सम्मानित अध्यक्ष- रामवली प्रसाद, मुख्य संरक्षक- महेंद्र राय, राज्याध्यक्ष- जियालाल प्रसाद , महासचिव- प्रेमचंद कुमार सिन्हा सहित राज्य स्तरीय नेताओं ने किया ।
प्रदर्शनोंपरांत धरना की अध्यक्षता जियालाल प्रसाद ने किया । धरना को उक्त वक्ताओं के अलावे भाकपा माले के विधायक कामरेड महानंद प्रसाद ,कामरेड वीरेंद्र कुमार गुप्ता ,ने सरकार के गलत नीतियों का विरोध किया एवं महासंघ गोप गुट के आंदोलन का समर्थन किया ।
माननीय विधायकों के संबोधन के पश्चात राज्य सचिव- निरंजन कुमार सिन्हा,सुभाष चंद्र सिंह, उमेश कुमार सुमन, भूपेंद्र कुमार लाल ,उपाध्यक्ष के० डी० विद्यार्थी , नागेंद्र सिंह, सुदिष्ट नारायण झा,राज्य कोषाध्यक्ष शत्रुघ्न प्रसाद सिंह ,एक्टू नेता आर०एन० ठाकुर ,रणविजय कुमार, आशा नेत्री शशि यादव आदि ने संबोधित किया ।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -
Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More