स्ट्रीट वेंडर्स (आजीविका संरक्षण एवं स्ट्रीट वेंडिंग का विनियमन)अधिनियम 2014 व प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्म निधि योजना (स्वनिधि) के क्रियान्वयन पर एक संवाद

0 698

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

स्ट्रीट वेंडर भारतीय शहरों का एक महत्वपूर्ण अंग हैं क्योंकि वे बेहतर लागत और सुविधाजनक स्थानों पर सामान और सेवाएं प्रदान करते हैं। स्ट्रीट वेंडर अपने परिवारों की देखभाल के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। यह गरीबों के लिए उद्यमशीलता सीखने और गरीबी को दूर जाने के लिए एक अच्छा माध्यम है। नेशनल एसोसिएशन ऑफ स्ट्रीट वेंडर्स ऑफ इंडिया (NASVI) भारत के लगभग सभी हिस्सों से 8, 50,543 स्ट्रीट विक्रेताओं का प्रतिनिधित्व करने वाले 655 स्ट्रीट वेंडर्स संगठनों की सदस्यता आधारित संगठन है। NASVI राष्ट्रीय और राज्य सरकारों के साथ-साथ नगर निकायों को अपने अधिकारों और अधिकारों के संरक्षण के लिए नीति और विधायी उपकरणों और नई पहलों के माध्यम से संलग्न करता है। यह स्ट्रीट वेंडर्स को संगठित करने के लिए प्रेरित करता है, उन्हें अपने संगठन बनाने में सक्षम बनाता है और उन्हें एक सुरक्षित और गरिमापूर्ण वातावरण में अपनी उद्यमशीलता को बढ़ाने में मदद करता है।

नासवी के सतत संघर्ष ने एक ऐतिहासिक कानून स्ट्रीट वेंडर्स (प्रोटेक्शन ऑफ लाइवलीहुड एंड रेगुलेशन ऑफ स्ट्रीट वेंडिंग) अधिनियम 2014 का नेतृत्व किया, जिसे मई, 2014 में संसद द्वारा अधिनियमित किया गया था, एवं बाद मे बिहार सरकार ने 2017 मे उक्त कानून के अनुपालन हेतु नियमावली बनाए| नासवी अधिनियम के कार्यान्वयन की प्रक्रिया में प्रहरी के रूप में काम करते हुए नगर निकायों व सरकार की मदद करता है|

कोविद -19 महामारी मे स्ट्रीट वेंडोर्स भी अन्य असंगठित मजदूरों के भाति ही बहुत गंभीर रूप से प्रभावित हुए | आन लॉक के प्रक्रिया में वेंडर्स के आजीविका को पुनः सुचारू रूप से चलाने के लिए नासवी के सघन वकालत व अभियान के फलस्वरूप प्रधानमंत्री आत्म निर्भर स्वनिधि योजना शुरू की गई एवं इस योजना के अंतर्गत वेंडर्स को दस हज़ार के ऋण की व्यवस्था की गई| इसके लिए वेंडिंग प्रमाणपत्र को अनिवार्य किया गया | जिसके तहत पटना सहित पुरे राज्य में फूटपाथ दुकानदारों का सर्वेक्षण शुरू किया गया| नासवी राज्य सरकार व पटना नगर निगम सहित राज्य के अन्य निकायों के द्वारा वेंडर्स के सर्वेक्षण करने, पहचान पत्र व सर्टिफिकेट ऑफ वेंडिंग निर्गत करने के कदम का स्वागत करती है | आज ज्यादातर फूटपाथ दुकानदारों के पास एक बैध पहचान पत्र है|

दुखद बात यह है की एक एक बैध पहचान पत्र व सर्टिफिकेट ऑफ वेंडिंग होने के बावजूद भी फूटपाथ दुकानदार शहरों में रोजगार से बेदखल किए जाने के डर के साये में जीते हैं। जिला प्रशासन और स्थानीय नगर निकायों ने इस कानून के साथ साथ प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना का मखौल उड़ाया है| कानून के धारा 3.3, भारत सरकार के अपील के बावजूद, भी अभी तक वेंडर्स के लिए वेंडिंग का स्थान चिन्हित नहीं किया गया | कानून के अंतर्गत गठित टाउन वेंडिंग समिति को पंगु बना
दिया गया है, नगर निकाय के कार्यपालक व आयुक्त इस समिति के अध्यक्ष होते है परंतु ऐसी कौन सी मजबूरी है की वे इसकी बैठक ही नहीं बुलाते| बिहार के सबसे बड़े नगर निगम पटना मे 3 अगस्त 2021 को TVC की बैठक की आहूत की गई लेकिन समिति के अध्यक्ष सह नगर आयुक्त के अनुपस्थित रहने से बैठक की खानापूर्ति ही हुई |

मनानिये उच्च न्यायालय के आदेश पर पटना मे 90 वेंडिंग शेल्टर बनाने की चर्चा थी, लकीन वेंडिंग रेग्युलेशन की बात कहीं नहीं हो रही है| 6 स्थानों में 13 यूनिट वेंडिंग जोन बनकर तैयार है, माननीय मुख्यमंत्री के द्वारा उदघाटन भी किया गया लेकिन इसमें अभी तक वेंडर्स को स्टाल आवंटन भी नहीं किया गया| राष्ट्रिय शहरी आजीविका मिशन जैसे परियोजनवो के बावजूद स्मार्ट सिटि के नाम पर वेंडोर्स को अपने रोजगार से वचित किए जा रहे है| नगर निकाय कभी अतिक्रमण के नाम पर कभी स्वछता के नाम पर वेंडर्स से चालन काटते है, और यह योजना मात्र कागजी ही साबित हो रही है|

पटना में 23749 स्ट्रीट वेंडर्स के सर्वेक्षण हुआ है, जिसमे 16536 वेंडर्स को सर्टिफिकेट ऑफ वेंडिंग जारी किये गए है | प्रधान मंत्री स्वनिधि योजना के लिए 14391 वेंडर्स ने स्वनिधि योजना के तहत 10,000 रु के ऋण के लिए आवदेन दिए जिसमे मात्र 5402 वेंडर्स को ही ऋण प्राप्त हुए है| इससे स्पष्ट है की वेंडर्स के लिए जारी इस योजना में बैंक की दिलचस्पी बहुत ही कम है|
Status of vending Zone in Patna / पटना में वेंडिंग जोन की स्थिति

Sr. No.
Name Of Vending Zone
Capacity of Zone
no of vendors

1
Beur
114
248

2
Anta Ghat
146
350

3
Gardhani Bagh
194
150

4
Macdonald’s Golambar
48
30

5
Biscoman Golambar
120
155

6
Saidpur
50
0

- Sponsored -

- Sponsored -

7
Boring Road Rajapool
120
120

8
Kankarbagh
90
400

बिहार के अन्य नगर निकाय में वेंडिंग जोन की स्थिति

#
Town
Vending Zone Name
Construction

1
Bhagalpur Municipal Corporatio
Khirni Ghat , Mayaganj, Nath Nagar
Construction In Progress

2
Buxar Municipal Council
Ambedkar Bazaar
Land Identified

3
Gopalganj Municipal Council
Banjari Modper, Police Line Ke Samne, Vanshidhar Petroleum Kebagalmei, Vyapar Mandal
Land Identified

4
Sasaram Municipal Council
Jyoti Babu Ke Ghar Se Post Master House
Land Identified

5
Chapra Municipal Corporation
Mazharul Haq Chowk To Mahmood Chowk
Construction In Progress

6
Motihari Municipal Council
Moti Jheel
Construction In Progress

7
Arah Municipal Corporation
Pakdi Mod To Bajaj Showroom, Ranjeet Kumar
Land Identified

8
Darbhanga Municipal Corporation
Shastri Chauk North, Shastri Chauk South
Land Identified

ज्वलंत मुद्दे:
जिला प्रशासन व नगर निकाय में आपसी समन्वय के अभाव में के कारन फूटपाथ दुकानदार प्रताड़ना के शिकार हो रहे है|
पहचान पत्र व वेंडिंग सर्टिफिकेट (COV) होने के वावजूद दुकानदार को आये दिन उजाडा जा रहा है|
टाउन वेंडिंग समिति को बैठक नहीं होने से फूटपाथ दुकानदारों के सन्दर्भ में कोई यथोचित निर्णय नहीं लिए जाते है |
नगर निगम के द्वारा सामानो की अवैध जब्ती एवं जुर्माना सहित स्थानीय पुलिस द्वारा प्रतारणा जारी है
पीएम स्वनिधि के लोन देने मे बैंको की उदासीन रवैया
वेंडिंग जोन प्रयाप्त मात्रा में चिन्हित नहीं किये गये जो चिन्हित है वह वेंडर्स को एलाटमेंट भी नहीं किये गए है|
शिकायत निवारण कमिटी का गठन नहीं होने से वेंडर्स अपनी मांग कही रख ही नहीं पाते है|

हम सरकार से मांग करते हैं की
जिन दुकानदारों को पहचान पत्र और प्रमाण पत्र दिया गया है, उन्हें नगर निकाय, पुलिस व अन्य प्रशासनिक तंत्र द्वारा परेशान नहीं किया जाना चाहिए।
जिन वेंडर्स को पहचान पत्र नहीं दिये गए है उनको शीघ्र पहचान पत्र दिये जाय|
राज्यों में विवाद निवारण तंत्र के गठन के लिए सख्त परिपत्र जारी करें।
स्ट्रीट वेंडिंग के सभी पहलुओं के बारे में निर्णय लेने के लिए अधिनियम द्वारा गठित टाउन वेंडिंग कमेटी (TVC) की नियमित बैठकें हो

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More