डीएम ने की मुख्य सचिव से शिकायत, केके पाठक से विवाद जारी

69

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

पटना में ठंड और शीतलहर के बीच आठवीं तक के स्कूल बंद करने पर कंफ्यूजन बनी हुई है। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक के निर्देश के बाद कड़ाके की ठंड के बावजूद आठवीं तक के स्कूल बंद नहीं होने पर डीएम डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने चिंता जताई है। उन्होंने कहा है कि माध्यमिक शिक्षा निदेशक की ओर से सरकारी स्कूलों को खोलने से जुड़े पत्र के बाद भ्रम की स्थिति पैदा हो गई है। डीएम ने बुधवार को मुख्य सचिव आमिर सुबहानी को पत्र भेजकर मदद मांगी है, जिसमें उन्होंने मामले में हस्तक्षेप कर उचित निर्णय लेने की मांग की है।

डीएम  डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने जो पत्र लिखा है उसमें कहा है कि –  शीतलहर इत्यादि कारणों से सरकारी विद्यालयों को बन्द करने के संबंध में।  भवदीय को सादर सूचित करना है कि पटना जिला में शीत दिवस की स्थिति एवं कम तापमान जारी रहने के कारण बच्चों के स्वास्थ्य और जीवन पर खतरे की संभावना के मद्नेनजर दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा-144 के तहत पटना जिला के सभी निजी /सरकारी विद्यालयों (प्री-स्कूल, आंगनबाड़ी केन्द्रों एवं एवं कोचिंग सेन्टर सहित) में वर्ग-8 तक की शैक्षणिक गतिविधियों पर अधोहस्ताक्षरी के विभिन्न आदेशों द्वारा प्रतिबंध लगाते हुए वर्तमान आदेश ज्ञापांक 1065/वि0 दिनांक 23.01.2024 द्वारा दिनांक 25.01.2024 तक विस्तारित किया गया है।

उक्त के संदर्भ में निदेशक (मा०शि०) शिक्षा विभाग (माध्यमिक शिक्षा निदेशालय) के पत्रांक 11/नि०मा० दिनांक 22.01.2024 (छायाप्रति संलग्न) द्वारा अधोहस्ताक्षरी द्वारा स्कूल बंद किये जाने के संबंध में निर्गत आदेश में शिक्षा विभागीय पत्रांक 12/गो० दिनांक 20.01.2024 (छायाप्रति संलग्न) का अनुपालन नहीं किये जाने का उल्लेख करते हुए जिला शिक्षा पदाधिकारी, पटना को सभी विद्यालयों को खुला रखने हेतु निदेशित किया गया।

- sponsored -

- sponsored -

- Sponsored -

अधोहस्ताक्षरी के पत्रांक 1042/गो० दिनांक 22.01.2024 (छायाप्रति संलग्न) द्वारा उपर्युक्त परिस्थिति एवं जिला दण्डाधिकारी को दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा-144 के तहत प्रदत्त शक्तियों के संबंध में निदेशक, माध्यमिक शिक्षा, बिहार, पटना को विस्तृत रूप से अवगत कराया गया। इसके पश्चात् पुनः विभागीय पत्रांक 331 दिनांक 23.01.2024 (छायाप्रति संलग्न) द्वारा विभिन्न प्रकार की आपत्तियों का उल्लेख करते हुए प्रतिवेदन की माँग की गयी है।

शिक्षा विभाग एवं जिला प्रशासन के बीच स्कूल बंद किये जाने के संदर्भ में विभागीय पत्राचार से भ्रम की स्थिति उत्पन्न हो रही है, जो प्रशासनिक दृष्टिीकोण से सही नहीं है। माना जाता है कि प्रशासनिक व्यवस्था में सभी स्तरों पर अधिकार एवं सीमायें सुपरिभाषित हैं, जिनका सम्मान किया जाना चाहिए। लेकिन, अब जो मामला सामने आया है उसमें लगातार सवाल उठाया जा रहा है।

माध्यमिक  शिक्षा निदेशक ने 22 जनवरी को पत्र जारी कर जिला शिक्षा पदाधिकारी पटना को सभी विद्यालयों को खुला रखने का निर्देश दिया है।  माध्यमिक निदेशक को जिले की हालात की स्थिति को देखते हुए धारा-144 में डीएम को प्रदत्त शक्तियों के बारे में विस्तार से पत्र के माध्यम से जानकारी दी गई। इसके बाद 23 जनवरी को फिर निदेशक की ओर से विभिन्न प्रकार की आपत्तियों का उल्लेख करते हुए प्रतिवेदन की मांग की गई।

भीषण शीतलहर से जनजीवन अस्तव्यस्त है। ठंड जानलेवा भी साबित हो रही है। राज्य में बुधवार को एक सिपाही और दो छात्रों सहित पांच की मौत हो गई। आशंका जताई जा रही है कि इन सभी की मौत ठंड लगने से हुई है। सभी मौतें अलग-अलग जिलों में हुई है। मरने वाले मुजफ्फरपुर, गोपालगंज , बक्सर, लखीसराय और छपरा के रहने वाले थे।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More