उपभोक्ताओं ने बैंक में जड़ा ताला उपभोक्ताओं के खाते से करोड़ों की हेराफेरी का मामला फिर से हुआ गर्म

0 68

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

उपभोक्ताओं ने बैंक में जड़ा ताला

उपभोक्ताओं के खाते से करोड़ों की हेराफेरी का मामला फिर से हुआ गर्म

आक्रोशित ग्रामीणों को समझाने मौके पर पहुँची पुलिस

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

बक्सर से कपीन्द्र किशोर की रिपोर्ट

4/1/2022

एक और देश में जहां प्रधानमंत्री के आह्वान के बाद बैंकों को और ग्राहकों की सुविधा के लिए ऑनलाइन खरीदारी और कैशलेस ट्रांजैक्शन के बारे में समझाया जा रहा है और बैंको पर विश्वास करने की सिख दी जा रही है वहीं.. वहीं बक्सर जिले में ग्रामीण एक बैंक के रवैया से इतने परेशान हैं कि उन्होंने वहां शाखा पर पहुंचकर तालाबंदी करके नारेबाजी की है.. कुछ माह पुर्व जिले के इसी ब्रांच से उपभोक्ताओं के खाते से करोड़ो रूपये की फर्जी निकासी कर ली गयी थी जिसके बाद पुलिस ने कार्यवाई करते हुऐ प्रबंधक को गिरफ्तार भी कर लियि था..लेकिन उपभोक्ताओं के पैसे बैंक ने नहीं लौटाऐ थे..कई महिने बित जाने के बाद भी बैंक द्वारा पैसें नहीं लौटाने पर आज ग्रामीण उपभोक्ताओं आक्रोशित हो गये और बैंक पंहुच कर ताला बंदी कर दी..आपको बता दे कि जिले के सिमरी प्रखंड क्षेत्र के आशा पड़री गाँव स्थित दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक के शाखा से बीते वर्ष 4 जून को उपभोक्ताओं के खाते से करोड़ों रूपए की हेराफेरी का मामला एक बार फिर से गर्म हो गया है। मंगलवार को सुबह स्थानीय ग्रामीणों एवं खाताधारकों के द्वारा बैंक में ताला जड़ दिया गया। बैंक खुलने के निर्धारित समय पर शाखा प्रबंधक के साथ साथ बैंक कर्मी पहुँचे तो उन्हें बाहर ही घण्टों खड़ा होना पड़ा, वही आक्रोशित ग्रामीणों का कहना है कि बैंक में उनके जमापूंजी का फर्जी तरीके से निकासी करने का मामला एक साल पुराना हो गया बावजूद उसे खाताधारकों को वापस लौटाने के लिए अबतक आश्वासन के सिवाय कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया। इधर बैंक में तालाबंदी की खबर सुनकर तुरंत सिमरी पुलिस मौके पर पहुँच ग्रामीणों को समझाने बुझाने का प्रयास में जुट गई।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -
Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More