हंगामा पर रिलीज हुआ आरा में बनी वेब सीरीज ‘अरावन’ लोकल मेड, सशक्त प्रस्तुति से चर्चा में हॉरर कामेडी ‘अरावन’

0 1,381

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

हंगामा पर रिलीज हुआ आरा में बनी वेब सीरीज ‘अरावन’
लोकल मेड, सशक्त प्रस्तुति से चर्चा में हॉरर कामेडी ‘अरावन’

आरा,7 मई. हर इंसान के अंदर एक हीरो होता है और उसे वह पर्दे पर लाने के लिए ताउम्र कई तरह की कोशिशें करता रहता है.
लेकिन बहुत कम लोग ही ऐसे में सफल हो पाते हैं. लेकिन कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो ऐसे सपने को अपनी धरती पर ही पूरा करने का सपना न सिर्फ देखते हैं बल्कि सपनों को आंखों तक पालने वालों को इसका हिस्सा भी बना डालते हैं. ऐसे ही टीम की है आज बात कर रहे हैं जिन्होंने अपने सपने को साकार कर लोकल लोगों को वोकल बनाने का काम किया है.

भोजपुर की धरती के एक होनहार शख्स ने अपने टैलेंट का परिचय दिया है. पहली बार निर्देशन से अपनी शुरुआत करने वाले आनंद कुमार ने अरावन (Aravan) नाम की वेब-सीरीज बनाई है जिसका कंटेंट लीक से हटकर है. आनन्द कुमार जगदीशपुर के रहने वाले है. वीर बाँकुड़ा बाबू कुंवर सिंह की वीरता वाली धरती के इस लाल के अंदर भी वही जोश है अपने सपने और काम को लेकर, हो भी क्यों न आखिर उस मिट्टी की ही ये विशेषता है जो आपको जुनूनी बना देता है.

छोटी सी इस जगह से निकल मुंबई में आनंद कुमार ने डिजनी स्टार नेटवर्क के लिए एडिटिंग सुपरवाइजर का काम किया और वहां से एक दशक का अनुभव लेने के बाद निर्देशन करने का फैसला लिया. फिर कल्पना की उड़ान में कुछ क्रिएटिव दोस्तों का साथ मिला और कहानी गढ़ ‘अरावन’ की शुरुआत हुई. फ़िल्म हो या वेब सिरीज उसको बनाने के लिए सबसे पहले धन की जरूरत होती है और सपने यही धराशायी हो जाते हैं. लेकिन आनंद और उनकी टीम से जुड़े लोग तकनीकी रूप से मजबूत थे इसलिए उन्होंने स्टार कास्ट और मुंबई के भारी खर्चे की जगह अपने क्षेत्र और यहाँ के लोगों को चुना.

अरावन की पूरी शूटिंग भोजपुर जिला में हुई है. काबिले तारीफ की बात यह है कि कलाकारों से लेकर तकनीशियन तक सभी स्थानीय ही इसमें जुड़े हैं. आप दूसरे शब्दों में यह कह सकते हैं कि फ़िल्म इंडस्ट्री के समकक्ष अपने जिले, अपनी मिट्टी पर एक इंडस्ट्री गढ़ने की यह छोटी सी कोशिश है.
यानि एक निर्देशक द्वारा लोकल को वोकल बनाने की हिम्मत उसके पहले काम में करना किसी चट्टानी दृढ़ इच्छा शक्ति से कम नही है.

- Sponsored -

- Sponsored -

कहा जाता है कि जब आप किसी कठिन कार्य के लिए कोशिश करते हैं तो पूरी प्राकृतिक शक्तियाँ आपका सहयोग करती हैं. इस कोशिश में साथ मिला निर्माता के रूप में आरा के ही गोढना निवासी प्रवीण कुमार और सदय कुमार का. ये ऐसे सक्रिय समाजसेवी हैं जिन्होंने कई स्थानीय लोगो को रोजगार देकर एक मिसाल कायम किया है.

वही इस वेब सीरीज के क्रिएटिव प्रोड्यूसर हैं ओ पी लीला पांडेय, जो किसी परिचय के मोहताज नही हैं. रंगमंच से मीडिया और फिर फ़िल्म इंडस्ट्री तक का सफर इनके जुझारूपन की किसी फिल्मी कहानी से कम नही. अपने वर्षो के एक्सपीरियंस को ओ.पी. पाण्डेय ने इस वेब सीरिज में लगा दी है. प्री-प्रोडक्शन, प्रोडक्शन और पोस्ट प्रोडक्शन तीनों विभाग में क्रिएटिव स्तर पर ओ पी पांडेय ने टेलिविजन व बॉलीवुड के बड़े-बड़े फिल्म सीरियल कर अपने नाम का लोहा मनवाया है. उनकी क्रिएटिविटी ‘अरावन’ वेब सीरीज में दिख रही है.

इस वेब सीरीज को अपने कलम से सजाने वाले रायटर भी आरा के ही रहने वाले ओ पी कश्यप हैं, जिन्होंने अपने लेखन और अभिनय से बॉलीवुड तक अपनी खास पहचान बनाई है. उन्होंने अपनी कलम से इस कदर अरावन के स्क्रिप्ट को सजाया है की लोगो की तारीफ मिल रही है. किन्नरो का रहस्य जो किन्नर खुद नही जानते वैसे रहस्यों को उजागर किया है लेखक ने.

सीरीज की में लीड रोल हैं बिहार की बेटी स्वेता सागर. उनके काम से खुश होकर आरा के लोगों ने उन्हे अब जूनियर ऐश्वर्या के नाम से चर्चित कर दिया है. सुरजीत सिंह राजपूत जो ‘एम एस धोनी’ जैसी बड़ी हिट फिल्म में अभिनय कर चुके है और बड़ी-बड़ी फिल्में 2024 में भी उनकी आने वाली है जिसमे पहली वेब सीरीज है अरावन. सुरजीत का अभिनय उच्चस्तरीय है और अरावन के लीड रोल में वो खूब जँच रहे है.

स्थानीय स्तर पर शूटिंग होने से न सिर्फ लोकल कलाकारों को काम मिला बल्कि आर्ट, लाइट, साउंड,से लेकर हर दिन उपयोग में आने कई तरह के वस्तुओं से जुड़ी संस्थानों या लोगों को इस प्रोजेक्ट से जुड़ने का मौका. चंदन कुमार, अरविंद राजा, शिवा और राकेश पटेल ने प्रोडक्शन को बखूबी संभाले रखा. लोकल को वोकल करने के लिए आनंद और उनकी टीम से जुड़े लोगों ने तो अपना काम बखूबी निभा वेब-सीरीज को हंगामा जैसे प्लेटफॉर्म पर रिलीज कर अपना काम कर दिया. अब देखना यह दिलचस्प होगा कि हंगामा पर आए इस वेब सीरीज को लोकल लोगों का कितना प्यार मिलता है. अपने लोकल कलाकारों को लोकल जनता कितना वोकल बनाती है ये तो कुछ दिन बाद पता चलेगा लेकिन लोगों की मिल रही प्रतिक्रिया से ये तो जाहिर हो गया है कि पहली नजर में उन्हें यह खूब भा रहा है.

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More