वित् त मंत्रालय का दावा है कि दाल-टमाटर की कीमतें जल्द ही घट जाएंगी और महंगाई घटेगी।

वित् त मंत्रालय का दावा है कि दाल-टमाटर की कीमतें जल्द ही घट जाएंगी और महंगाई घटेगी।

194

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

वित् त मंत्रालय का दावा है कि दाल-टमाटर की कीमतें जल्द ही घट जाएंगी और महंगाई घटेगी।

बारिश के चलते आसमान पर सब्जियों और मसालों के भाव, इस विदेशी बैंक ने महंगाई  को लेकर की बड़ी भविष्यवाणी - India TV Hindi

नई दिल्‍ली वित् त मंत्रालय का मानना है कि देश में बढ़ती महंगाई कम होगी। मंत्रालय ने कहा कि देश में खाद्य पदार्थों की महंगाई अस्थायी है और सरकार के एहतियाती उपायों और नई फसलों के मंडियों में आने से कीमतें कम होंगी। लेकिन मंत्रालय ने कहा कि घरेलू व्यवधानों और वैश्विक अनिश्चितता से आने वाले महीनों में महंगाई बढ़ सकती है। मंत्रालय ने जुलाई की मासिक आर्थिक समीक्षा में कहा कि निवेश मांग और घरेलू खपत में इजाफा होने से विकास को गति मिलने की उम्मीद है।

जुलाई 2023 में, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक पर आधारित खुदरा महंगाई 15. महीने के उच्च स्तर 7.44% पर पहुंच गई। कोर महंगाई दर, हालांकि, 39 महीने पहले 4.9 प्रतिशत पर रही। जुलाई में दालों, सब्जियों और अनाज की वृद्धि दर पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में दहाई अंक में रही। मंत्रालय की रिपोर्ट कहती है कि जुलाई 2023 में कुछ खाद्य वस्तुओं की कीमतों में असामान्य वृद्धि हुई, जिससे खाद्य मुद्रास्फीति बढ़ी। सरकार ने पहले ही खाद्य मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक उपाय किए हैं।

- sponsored -

- sponsored -

- Sponsored -

3. साढ़े 5 करोड़ से अधिक टैक्सपेयर्स ने नवीनतम टैक्स रिजीम को नकार दिया, क्योंकि यह बहुत अच्छे कारणों से लोकप्रिय हो रहा है! खाद्य पदार्थों की कीमतें क् यों बढ़ीं?

वित्त मंत्रालय ने कहा कि घरेलू उत्पादन और वैश्विक अनिश्चितता ने भी मुद्रास्फीति पर दबाव बढ़ा दिया है। कर्नाटक के कोलार जिले में सफेद मक्खी रोग ने टमाटर की आपूर्ति में बाधा डाली। ठीक उसी तरह, उत्तरी भारत में मानसून की जल्दी आने से फसल को हुआ नुकसान के कारण टमाटर की कीमतें बढ़ी। खरीफ सत्र 2022–2023 में कम उत्पादन के कारण तुअर दाल की कीमत भी बढ़ी है। मंत्रालय का कहना है कि खाद्य पदार्थों की कीमतों में वृद्धि हुई है क्योंकि प्रमुख गेहूं उत्पादक क्षेत्रों में शुष्क मौसम के साथ-साथ रूस की ओर से काला सागर अनाज सौदे को समाप्त कर दिया गया है। कब लागत कम होगी?

सरकार के एहतियाती उपायों और ताजा स्टॉक के बाजार में आने के साथ ही कीमतों का दबाव जल्द कम होने की संभावना है, जैसा कि जुलाई की समीक्षा रिपोर्ट में कहा गया है। मंत्रालय ने कहा कि अगस्त के अंत या सितंबर की शुरुआत में नवीनतम स्टॉक आने से टमाटर की कीमतें गिर सकती हैं। साथ ही, अरहर दाल के आयात में वृद्धि से दालों की कीमत कम होने की उम्मीद है। हाल के सरकारी प्रयासों के कारण ये घटक जल्द ही खाद्य मुद्रास्फीति को कम कर सकते हैं। साथ ही रिपोर्ट में कहा गया है कि घरेलू व्यवधान और वैश्विक अनिश्चितता आने वाले महीनों में मुद्रास्फीति पर दबाव बढ़ा सकते हैं, जो सरकार और आरबीआई को अधिक सावधान रहने की जरूरत होगी। इनकी दरें बहुत अधिक थीं।

वित्त मंत्रालय ने कहा कि जुलाई में टमाटर, हरी मिर्च, अदरक और लहसुन की कीमतें 50 प्रतिशत से अधिक बढ़ी हैं। खाद्य वस्तुओं की मुद्रास्फीति केवल 48% 6% से अधिक है। वहीं, चौबीस खाद्य पदार्थों का मूल्य दो अंकों में है।

 

Reported by Lucky Kumari

 

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More